SAR Value क्‍या होती है

आप लोगों ने मोबाइल रेडिएशन के बारे में जरूर सुना होगा, दोस्‍तों हर मोबाइल फोन में एक Antenna होता है जिसका काम फोन के सिग्‍नल को टावर तक ले जाने और टावर से लाने का होता है, ये वाई फाई के द्वारा भी काम करता है, Bluetooth के द्वारा भी काम करता है इन सबमें Antenna Electromagnetic Waves पर काम करता है

आप सोचिए इन तरंगों में कुछ न कुछ ताकत जरूर होती है और वो धीमे धीमे वातावरण में फैलती रहती है इसको ही मोबाइल रेडिएशन कहा जाता है मोबाइल रेडिएशन को SAR वैल्‍यू के साथ टेस्‍ट किया जाता है अब आप सोच रहे होगे कि आखिर SAR वैल्‍यू होती क्‍या है और आप इसे मोबाइल फोन के ऊपर कैसे Check कर सकते हैं और कौन सी SAR वैल्‍यू ज्‍यादा सुरक्षित होती है, आपके मोबाइल फोन के ऊपर SAR वैल्‍यू के लेवल क्‍या होने चाहिए और आप इसे कैसे निकाल सकते हैं ये सब आज मैं आपको बताने वाला हूं और साथ में ये भी बताउंगा कि आप मोबाइल रेडिएशन से कैसे बच सकते हैं

SAR Value क्‍या होती है

दोस्‍तों जैसा कि मैंने आपको बताया है कि SAR वैल्‍यू से मोबाइल रेडिएशन का पता चलता है अब मैं आपको बताता हूं कि SAR का मतलब क्‍या होता है इसका पूरा नाम Specification Absorption Rate होता है, इसका मतलब जब आप मोबाइल फोन को इस्‍तेमाल करते हैं तो आपके शरीर के जो Tissue होते हैं वो आखिर कितना रेडिएशन Absorb करते हैं, अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर ये वैल्‍यू कितनी होनी चाहिए, Normally ये वैल्‍यू 1.6W/kg होनी चाहिए पर अगर SAR Value इससे ज्‍यादा होती है तो मोबाइल रेडिएशन नार्मेल से ज्‍यादा हो जाता है और वो Human Body के लिए हानिकारक हो सकता है 

अगर ये वैल्‍यू 1.6W/kg से कम होती है तो वो शरीर के लिए हानिकारक नहीं होती है ये वैल्‍यू भारत सरकार के द्वारा सेट की हुई है अगर आप भारत और अमेरिका की SAR वैल्‍यू  में अंतर देखेंगे तो वो भारत में 1.6W/Kg होती है और अगर आप European देशों में जाएंगे तो ये उन्‍होंने 2.0W/Kg निर्धारित कर रखी है

SAR Value को Mobile Phone में कैसे Check किया जाता है

दोस्‍तों जब भी आप कोई नया मोबाइल फोन खरीदते हैं तो आपको मोबाइल फोन के बॉक्‍स के ऊपर SAR वैल्‍यू लिखी होती है, भारत सरकार ने ये बिल्‍कुल Mandatory कर रखा है कि मार्केट में जब भी कोई नया फोन आएगा तो उसकी SAR वैल्‍यू कंपनी के द्वारा उसके बॉक्‍स के ऊपर लिखना जरूरी होता है तो जब भी आप मोबाइल फोन को खरीदे तो SAR वैल्‍यू को देखकर खरीदे SAR वैल्‍यू जितनी ज्‍यादा कम होती है मोबाइल फोन आपके लिए उतना अच्‍छा होता है और SAR वैल्‍यू जितनी ज्‍यादा होती है मोबाइल फोन आपके लिए उतना ज्‍यादा हानिकारक हो सकता है वो आपके शरीर को नुकसान पहुंचा सकता है

मान लीजिए कि मोबाइल खरीदते समय आपने SAR वैल्‍यू नहीं देखी और अब आपको उस मोबाइल का बॉक्‍स नहीं मिल रहा है तो अब आप क्‍या करें, आपको कुछ नहीं करना है आपको अपना मोबाइल फोन लेना है और उसमें डॉयल करें *#07# ये करने के बाद आपको आपके फोन की  SAR वैल्‍यू का तुरंत पता चल जाएगा, आज जो मोबाइल फोन आ रहे हैं वो Head और Body दोनों के लिए अलग-अलग SAR Value देते हैं इसमें Head की SAR Value 1.6 होती है और Body की इससे कम होती है क्‍योंकि फोन को कॉन में लगाना होता है और वो आपकी Body के पास होता है इससे एक बात समझ में आती है कि ये दोनों ही वैल्‍यू 1.6 से कम होनी चाहिए

दोस्‍तों बहुत पुराने मोबाइल फोन में *#07# भी नहीं चलता है तो आप मोबाइल के नाम और मॉडल नंबर से गूगल सर्च में जाकर उसकी SAR वैल्‍यू को चेक कर सकते हैं, अगर आप ये भी नहीं करना चाहते हैं तो आप अपने फोन की ऑफिशयल वेबसाइट पर जाए और अपने फोन की फोन Brand को ढूंढे और Specification में जाकर SAR वैल्‍यू को चेक कर सकते हैं

दोस्‍तों अगर आपके मोबाइल फोन की SAR वैल्‍यू 1.6W/Kg से कम है तो भी आपको कुछ सावधानियां रखनी होती है, अगर आप किसी को फोन कर रहे हैं या फिर आप गानें सुनने के ज्‍यादा शोकिन है तो आप ज्‍यादा से ज्‍यादा Wired हैडफोन का इस्‍तेमाल करें क्‍योंकि अगर आप Bluetooth को इस्‍तेमाल करने की सोच रहे हैं तो न करें क्‍योंकि Bluetooth के भी रेडिएशन होते हैं  वो भी मोबाइल फोन जैसे ही होते हैं इस पर अभी रिसर्च चल रही है

दोस्‍तों ऐसा आज तक नहीं पाया गया है कि अगर किसी की मोबाइल रेडिएशन 2 or 2.5 W/Kg तक हो गई है तो वो आपकी शरीर में कोई बहुत बडी समस्‍या कर सकती है, हां ये बात जरूर है कि मोबाइल फोन रेडिएशन छोडते हैं और अगर आप इसका इस्‍तेमाल ज्‍यादा समय के लिए करते हैं तो आपके शरीर में इसके कुछ न कुछ Effect आने के Chances होते हैं

SAR Value का Body पर क्‍या प्रभाव पडता है

वैसे मैं आपको पहले ही बता चुका हूं कि मोबाइल रेडिएशन आपके शरीर में कोई ज्‍यादा प्रभाव नहीं डालती है पर अगर आप मोबाइल फोन को बहुत ज्‍यादा इस्‍तेमाल करते हैं और अगर कहीं आप अपने फोन पर एक साथ बहुत सारे काम कर रहे हैं जैसे आप फोन पर बात भी कर रहे हैं और इंटरनेट के माध्‍यम से किसी के चैटिंग भी कर रहे हैं तो आपको हैडफोन इस्‍तेमाल करने का ध्‍यान रखना होता है इससे आपको एक बात का फायदा होता है कि फोन आपके सिर के पास नहीं आता है इससे Brain Tumor या ब्रेन कैंसर जैसी समस्‍या होने के Chance से आप बच सकते हैं मैं ऐसा इसलिए कह रहा हूं कि मोबाइल से निकलने वाली तरंगे जब बहुत ज्‍यादा बढ जाती है तो वो धीमे धीमे आपके शरीर में बहुत बडा प्रभाव डाल सकती है

आशा है मेरे द्वारा जो आपको SAR Value के बारे में जो जानकारी दी गई हैं वो आपको जरूर पसंद आई होगी अगर हां तो कमेंट करके जरूर बताएं हमें आपके कमेंट का इंतजार रहेगा